तिहाड़ जेल में बंद निर्भया के दोषी विनय ने दीवार में सिर मारा, घायल हुआ

नई दिल्ली. निर्भया गैंगरेप (Nirbhaya Gangrape) और हत्या के मामले में दोषी विनय शर्मा ने खुद को फांसी की सजा से बचाने के लिए एक और चाल चली है. मिली जानकारी के अनुसार, दोषी ने सेल की दीवार से अपना सिर फोड़ लिया है, जिसमें उसे चोट आई है. उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के बाद उसे वापस जेल भेज दिया गया |

क्यों किया ऐसा?
विनय शर्मा को तिहाड़ जेल के बैरक नंबर 3 में रखा गया है. यह घटना सोमवार 16 जनवरी की बताई जा रही है. सूत्रों के अनुसार, विनय ने सेल में अपना सिर पटका. हालांकि, वह दोबारा और जोर से ऐसा कर पाता तब तक बाहर खड़े सिपाही ने उसे रोक लिया. बताया गया कि दोषी विनय खुद को फांसी से बचाने के लिए चाल चल रहा है. वह खुद को मेडिकल अनफिट करने की कोशिश में है, ताकि उसकी फांसी टल जाए. इस घटना के बाद चारों दोषियों पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है |

डेथ वॉरंट जारी होने के बाद आक्रामक हो गए हैं दोषी

दावा किया है कि तीसरी बार डेथ वॉरंट जारी होने के बाद से ही दोषियों के रवैये में काफी बदलाव देखने को मिला है. उनका रवैया पहले से ज्यादा आक्रामक हो गया है. अब उन्हें छोटी-छोटी बातों पर गुस्सा आ रहा है. सीसीटीवी के जरिये भी एक कर्मचारी हमेशा चारों दोषियों पर नजर रख रहा है |
वकील एपी सिंह का दावा- विनय की दिमागी हालत खराबदोषियों के वकील एपी सिंह ने दावा किया है कि विनय की दिमागी हालत ठीक नहीं है. 17 फरवरी को विनय ने अपनी मां को पहचानने से भी इनकार कर दिया था. सिंह ने कहा कि नया डेथ वॉरंट जारी होने के बाद से विनय की मानसिक हालत और बिगड़ गई है |

हालांकि, जेल अधिकारियों का कहना है कि विनय के साथ बातचीत में इसका कोई संकेत नहीं मिला. एक अधिकारी ने कहा, ‘वह बिल्कुल स्वस्थ है और हाल ही में हुए साइकोमेट्री टेस्ट में वह बिल्कुल दुरुस्त निकल |

मेडिकल हेल्थ पर भी नजर रखी जा रही
सूत्रों का कहना है कि जेल प्रशासन यह नहीं चाहता है कि डेथ वॉरंट जारी होने के बाद इन्हें ऐसा लगे कि इनके साथ प्रशासन का व्यवहार बदला हुआ है. इसलिए अधिकारी इनसे जाकर बातचीत करते हैं. दोषियों की लगातार काउंसलिंग भी कराई जा रही है. साथ ही परिजनों से मुलाकात का वक्त भी दिया जा रहा है और मेडिकल हेल्थ पर भी नजर रखी जा रही है |


कब होगी फांसी?
17 फरवरी को अदालत ने निर्देश दिया था कि चारों दोषियों -मुकेश कुमार सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय कुमार शर्मा (26) और अक्षय कुमार (31) को तीन मार्च को सुबह छह बजे फांसी पर लटकाया जाए और तब तक लटकाये रखा जाए जब तक उनकी मौत न हो जाए. यह तीसरी बार है कि इन चारों के लिए अदालत से मृत्यु वारंट जारी किये गये हैं |

निर्भया की मां ने कहा- उम्मीद है इस बार होगी फांसी
इस बीच निर्भया की मां ने उम्मीद जतायी कि चारों दोषियों को 3 मार्च को फांसी पर लटका दिया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘हम आशा करते है कि इस आदेश को आखिरकर लागू किया जाएगा |

Comments (5)

Great content! Super high-quality! Keep it up! 🙂

understanding yet.

Thanks for any other informative site. Where else may just

You completed some nice points there. I did a search on the matter and found the majority of people will consent with your blog.

few fascinating issues or suggestions. Perhaps you could write subsequent articles referring to this article.

Leave a comment