IND vs SL T20: रोहित के तूफान में उड़ा श्रीलंका, 2-0 से सीरीज पर भारत का कब्जा !!

नई दिल्ली: दूसरे टी-20 मुकबाले में टीम इंडिया ने श्रीलंका को 88 रनों से हरा कर सीरीज पर 2-0 से कब्जा जमा लिया. इस जीत के साथ ही भारतीय टीम आईसीसी टी-20 रैंकिंग में दूसरे स्थान पर पहुंच गई है. कप्तान रोहित शर्मा की रिकॉर्ड शतकीय पारी और कलाईयों के दोनों स्पिनरों की जबर्दस्त वापसी के दम पर भारत ने श्रीलंका पर अपना दबदबा बरकरार रखते हुए दूसरे टी20 मैच में आज यहां 88 रन से जीत दर्ज करके तीन मैचों की सीरीज में 2-0 से अजेय बढ़त हासिल की. रोहित ने अपनी पावर हिटिंग और कलात्मकता का शानदार प्रदर्शन करके 43 गेंदों पर 12 चौकों और दस छक्कों की मदद से 118 रन बनाए. उन्होंने केवल 35 गेंदों पर अपना सैकड़ा पूरा करके दक्षिण अफ्रीका के डेविड मिलर के विश्व रिकॉर्ड की बराबरी की. रोहित ने केएल राहुल (49 गेंदों पर 89 रन) के साथ पहले विकेट के लिये 165 रन की रिकॉर्ड साझेदारी की. राहुल ने अपनी पारी में पांच चौके और आठ छक्के लगाये और महेंद्र सिंह धोनी (28) के साथ दूसरे विकेट के लिये 78 रन जोड़े. इससे भारत पांच विकेट पर 260 रन बनाने में सफल रहा जो उसका इस प्रारूप में सर्वोच्च स्कोर है. श्रीलंका की टीम इसके जवाब में 17.2 ओवर में 172 रन ही बना पाई. कुसल परेरा की 37 गेंदों पर चार चौकों और सात छक्कों की मदद से खेली गयी 77 रन की पारी तथा उपुल थरंगा (29 गेंदों पर 47) के साथ उनकी दूसरे विकेट के लिए 109 रन की साझेदारी से श्रीलंका का स्कोर एक समय दो विकेट पर 145 रन था लेकिन युजवेंद्र चहल (52 रन देकर चार विकेट) और कुलदीप यादव (52 रन देकर तीन विकेट) ने इसके बाद 19 रन के अंदर सात विकेट निकालकर मैच को एकतरफा बना दिया. भारत इससे टी20 रैंकिंग में दूसरे स्थान पर पहुंच गया. भारत ने कटक में खेला गया पहला मैच 93 रन से जीता था. सीरीज का तीसरा और अंतिम मैच 24 दिसंबर को मुंबई में होगा. भारत ने टी20 अंतरराष्ट्रीय में दूसरा संयुक्त सर्वोच्च स्कोर बनाया. इससे पहले उसका सर्वोच्च स्कोर चार विकेट पर 244 रन था जो उसने पिछले साल वेस्टइंडीज के खिलाफ लाडरहिल में बनाया था. श्रीलंका ने भी तेज तर्रार शुरूआत की और वह पावरप्ले में 61 रन बनाने में सफल रहा लेकिन उसने इस बीच निरोशन डिकवेला (25) का विकेट भी गंवाया जिन्होंने जयदेव उनादकट की धीमी गेंद पर डीप स्क्वायर लेग पर कैच दिया. कटक में पहले मैच में भारत के कलाईयों के स्पिनरों ने श्रीलंका को सस्ते में ढेर कर दिया लेकिन आज ये दोनों उनके निशाने पर थे. डिकवेला के स्थान पर आये कुसल परेरा ने कुलदीप पर लगातार दो छक्के जड़कर पावरप्ले में श्रीलंका को बेहतर स्थिति में रखा जबकि चहल का स्वागत भी दो छक्कों से हुआ. इस बार बल्लेबाज थरंगा थे. इनमें से दूसरे छक्के पर श्रीलंका ने दस ओवर में स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया.
कुसल परेरा ने चहल के अगले ओवर में चौका जड़कर केवल 26 गेंद पर अर्धशतक पूरा किया. इसके बाद जब उन्होंने कुलदीप पर चौका और छक्का लगाया तो धोनी और रोहित दोनों अपने इस चाइनामैन गेंदबाज को समझाते हुए नजर आए. उनकी इस सीख का कुलदीप पर सकारात्मक असर पड़ा और उन्होंने एक ओवर में कुसल परेरा सहित तीन विकेट लेकर भारत की जीत सुनिश्चित की.
विकेट पतन की शुरूआत हालांकि चहल ने थी. उनकी गेंद थरंगा के बल्ले के बाहरी किनारे से लगकर हवा में लहरा गयी थी. कुलदीप ने अगले ओवर में कप्तान तिसारा परेरा (शून्य) और कुसल परेरा दोनों को सीमा रेखा के पास में कैच करवाया जबकि असेला गुणरत्ने (शून्य) को धोनी ने स्टंप आउट किया.
चहल ने भी अपने अगले ओवर में तीन विकेट लिये जिसके बाद श्रीलंकाई पारी समाप्त होने में समय नहीं लगा. एंजेलो मैथ्यूज गेंदबाजी करते समय चोटिल होने के कारण बल्लेबाजी के लिये नहीं उतरे.
इससे पहले रोहित ने अपने पसंदीदा डीप मिडविकेट के अलावा डीप एक्स्ट्रा कवर, लॉग ऑन और थर्ड मैन क्षेत्र में भी जमकर रन बटोरे. उन्होंने सबसे तेज शतक के अलावा एक पारी में सर्वोच्च स्कोर और एक पारी में सर्वाधिक छक्कों के भारतीय रिकॉर्ड को अपने नाम किया. राहुल ने भी उनका बराबर का साथ दिया जिससे भारत की तरफ से कुल 21 छक्के लगे और इस तरह से उसने वेस्टइंडीज के पिछले रिकॉर्ड की बराबरी की. होलकर स्टेडियम की बाउंड्री छोटी कर दी गयी थी और ऐसे में जब टॉस गंवाने के बाद क्रीज पर उतरे रोहित और राहुल दनादन चौके और छक्के जड़कर श्रीलंकाई आक्रमण की कलई खोलकर रख दी. इन दोनों ने पहले चार ओवरों में 26 रन बनाये लेकिन अगले दो ओवरों में 33 रन ठोक दिये. इस तरह से पावरप्ले के छह ओवरों में 59 रन बने. राहुल इस बीच जब छह रन पर थे तब एंजेलो मैथ्यूज की गेंद पर सदीरा समरविक्रम ने उनका कैच छोड़ा। श्रीलंका को यह गलती काफी महंगी पड़ी क्योंकि राहुल ने इसके बाद रोहित का न सिर्फ सक्रिय साथ दिया बल्कि बाद में गगनदायी शॉट लगाने के अपने कौशल का खुलकर प्रदर्शन भी किया. रोहित ने अपने करारे शॉट से दर्शकों को खासा रोमांचित किया. उन्होंने असेला गुणरत्ने पर लगातार दो छक्के और फिर दो चौके लगाए. उन्होंने अपने पहले 50 रन 23 गेंदों पर बनाये थे लेकिन अगला पचासा केवल 12 गेंदों पर पूरा किया. इससे भारत ने पहले दस ओवरों में बिना किसी नुकसान के 117 रन बनाये जो शुरूआती दस ओवरों में उसका सर्वोच्च स्कोर है. रोहित ने श्रीलंकाई कप्तान तिसारा परेरा के एक ओवर में चार छक्के लगाकर स्टेडियम में शोर का डेसीबल कई गुना बढ़ा दिया. गेंद हवा में तैरती और कुछ देर बाद दर्शकों के बीच पहुंच जाती. मैथ्यूज के अगले ओवर में रोहित ने चौका जड़कर टी20 अंतरराष्ट्रीय में अपना दूसरा शतक पूरा करने के साथ ही विश्व रिकॉर्ड की बराबरी की. रोहित टी20 अंतरराष्ट्रीय में दो शतक लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज भी बने. भाग्य भी श्रीलंका के साथ नहीं था क्योंकि इसके तुरंत बाद मांसपेशियों में खिंचाव के कारण मैथ्यूज को गेंदबाजी से हटना पड़ा. उसे आखिर में 13वें ओवर में राहत मिली जब रोहित ने चमीरा पर दो छक्के और एक चौका जड़ने के बाद शॉर्ट थर्ड मैन पर कैच थमाया. इससे पहले वह हालांकि राहुल के साथ मिलकर भारत की तरफ से पहले विकेट की साझेदारी का नया रिकॉर्ड बना चुके थे. इससे पहले का रिकॉर्ड रोहित और शिखर धवन के नाम पर था. उन्होंने इसी साल न्यूजीलैंड के खिलाफ नयी दिल्ली में 158 रन जोड़े थे. राहुल ने इसके बाद प्रदीप की गेंद पर चौका लगाकर 35 गेंदों में अपना लगातार दूसरा अर्धशतक पूरा किया. राहुल ने इसी ओवर की आखिरी दों गेंदें भी छक्के और चौके लिये भेजी. राहुल के पास भी शतक पूरा करने का मौका था लेकिन अपनी पारी का आठवां छक्का लगाने के बाद निरोशन डिकवेला के बेहतरीन कैच के कारण उन्हें पवेलियन लौटना पड़ा. भारत ने आखिरी दो ओवरों में राहुल और धोनी सहित हार्दिक पंड्या (दस) और श्रेयस अय्यर (शून्य) के भी विकेट गंवाये जिससे वह ऑस्ट्रेलिया के तीन विकेट पर 263 रन के रिकॉर्ड को तोड़ने से चूक गया. !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *