बेनजीर हत्याकांड मामला:10 साल बाद सुलझी गुत्‍थी- मुशर्रफ भगोड़ा घोषित, दो अधिकारियों को जेल की सजा !!

पाकिस्तान में आज एक आतंकवाद निरोधक अदालत ने करीब एक दशक पुराने बेनजीर भुट्टो हत्याकांड मामले में पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ को भगोड़ा घोषित किया तथा दो वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को 17 साल जेल की सजा सुनाई। पाकिस्तान में दो बार प्रधानमंत्री रहीं बेनजीर भुट्टो की 27 दिसंबर 2007 को रावलपिंडी के लियाकत बाग में एक चुनावी रैली के दौरान हत्या कर दी गई थी। हत्या के तत्काल बाद मामला दर्ज किया गया था जिसकी सुनवाई कल रावलपिंडी में खत्म हुई। सुनवाई के दौरान कई उतार-चढ़ाव आए। हत्या के समय बेनजीर की उम्र 54 साल थी। आतंकवाद विरोधी अदालत के न्यायाधीश असगर खान ने आज इस मामले में फैसला सुनाया।अदालत में रावलपिंडी के पूर्व सीपीओ सउद अजीत और रावल टाउन के पूर्व पुलिस अधीक्षक खुर्रम शहजाद मौजूद थे। अजीज और शहजाद को 17 साल जेल की सजा सुनाई गई। अदालत ने उन्हें पांच-पांच लाख रूपए का जुर्माना अदा करने का भी निर्देश दिया। अदालत ने पांच अन्य आरोपियों को बरी कर दिया और मुशर्रफ को भगोड़ा घोषित किया। उनकी संपत्ति जब्त करने का भी आदेश दिया गया है। जब बेनजीर की हत्या की गई थी तब परवेज मुशर्रफ पाकिस्तान के राष्ट्रपति थे और वह भी बेनजीर मामले में एक आरोपी थे। पांचों संदिग्धों के खिलाफ मुख्य सुनवाई जनवरी 2008 में शुरू हुई जबकि मुशर्रफ, अजीज तथा शहजाद के खिलाफ सुनवाई फेडरल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी की नई जांच के बाद 2009 में शुरू की गई। इस अवधि में आठ अलग अलग न्यायाधीशों ने मामले की सुनवाई की जिन्हें विभिन्न कारणों से बदला भी गया।

आरोपियों में मुशर्रफ भी शामिल
संघीय जांच एजेंसी (एफआइए) के मुख्‍य अधिवक्‍ता मोहम्‍मद अजहर चौधरी ने प्रतिबंधित तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्‍तान (टीटीपी) के पूर्व मुखिया व एक मौलाना के बीच बातचीत के ऑडियो रिकॉर्ड के प्रमाण तथा फोन कॉल्‍स के सबूतों को खारिज कर दिया जिसमें बेनजीर की हत्‍या के लिए आतंकियों को बधाई दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुशर्रफ ने जांचकर्ताओं को गुमराह करने और अपने आपको बचाने के लिए यह कहानी गढ़ी है। चौधरी ने दावा किया कि जनरल मुशर्रफ ने अपने सहयोगी रिटायर्ड ब्रिगेडियर जावेद इकबाल चीमा के जरिए मनगढंत कहानी बनाई। उनके अनुसार, जनरल मुशर्रफ भी आरोपी थे और बेनजीर की हत्‍या के लिए साजिश की थी।

ये था मामला
पाकिस्‍तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की 27 दिसंबर 2007 को रावलपिंडी में एक चुनाव प्रचार के दौरान हत्या कर दी गई थी। पाकिस्तान का एक बड़ा तबका उन्हें भ्रष्टाचारी के तौर पर देखने लगा था और बाद में भ्रष्‍टाचार का दोषी ठहराए जाने के बाद बेनजीर ने 1999 में पाकिस्तान छोड़ दिया। वे दुबई में रहने लगीं। लेकिन पाकिस्तान की सैनिक सरकार ने बेनजीर पर लगे विभिन्न आरोपों की जांच में उन्हें निर्दोष पाया जिसके बाद वे 18 अक्टूबर 2007 में पाकिस्तान वापस आ गईं। !!

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का फोन नंबर – कोई भी परेशानी हो तो व्हाटसअप करे !!

उत्तरप्रदेश के नए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपना व्हाटसअप नंबर जारी किया है | इस नंबर के जरिये राज्य का कोई भी नागरिक शिकायत दर्ज करवा सकता है और सरकार की ओर से 3 घंटो के अंदर कार्यवाई की जाएगी | यूपी में भाजपा सरकार ने बहुत से बदलाव किये है और आदेश जारी किया है, जिनसे राज्य में सुरक्षा कानून सख्त हुआ है | योगी सरकार ने लड़कियों की मदद के लिए और उनकी सुरक्षा के लिए एंटी- रोमियो स्क्वाड की शुरुआत की और अन्य मुख्य आदेश जारी किये | एंटी- रोमियो स्क्वाड की मदद से राज्य में लड़कियों और महिलाओ के साथ होने वाली छेड़छाड़ के साथ रोक लगाई गई है | इसी तरह अब योगी जी ने आपन व्हाटसअप फोन नंबर लागू कर दिया है | योगी सरकार द्वारा राज्य में जारी उनका यह संपर्क नंबर एक नई योजना का काम कर रही है | मुख्यमंत्री के इस नंबर पर कोई भी शिकायत दर्ज करवाई जा सकती है और दर्ज की गई समस्या या शिकायत पर 3 घंटो के अंदर करवाई की जाएगी | इस नंबर पर आने वाली समस्याओ व शिकायतों पर योगी जी की नज़र रहेगी | इस नंबर के जरिये कोई भी अभी समस्याओ को बिना परेशानी दर्ज करवा सकता है |

यूपी मुख्यमंत्री का व्हाटसअप नंबर और संपर्क नंबर :-

सीएम ने राज्य के सभी लोगो की परेशानिया सुन पाए और उनको हल कर पाए उसके योगी जी ने अपना नंबर वास्तविक नंबर राज्य में जारी किया है | मुख्यमंत्री जी ने परीक्षाओ में हो रही नक़ल को रोकने के लिए भी फोन नंबर जारी किया है | सरकार राज्य में कण्ट्रोल रूम भी बनाएगी, जिससे जल्द-से-जल्द करवाई की जाए | राज्य में पहले भी डिप्टी सीएम को परीक्षाओ में हो रही नक़ल पर रोक लगाने के लिए डीएम और एसएसपी सभी को आदेश दिए गए थे कि, स्कूल- कॉलेजो में नकल करवाने वाले कॉलेज प्रबन्धकों, कक्ष निरीक्षकों एवं नकल माफियाओं के खिलाफ शिक्षा अधिनियम, नकल विरोधी अधिनियम तथा अन्य सुसंगत शासनादेशों के अंतर्गत सख्त-से-सख्त कार्यवाई कि जाए | परीक्षा केंद्रों के 100 मीटर दूर तक कोई गतिविधि नही हो पाए |
सीएम व्हाटसअप नंबर और शिकायत दर्ज का समय :-

यूपी राज्य में जारी मुख्यमंत्री जी के नंबर पर शिकायत दर्ज करवाने का समय प्रात: 7 बजे से सायं 7 बजे तक होंगी | इसके लिए राज्य में कण्ट्रोल रूम भी स्थापित किये जाएंगे |
सीएम व्हाटसअप नंबर :- 09454404444
परीक्षा में नक़ल करने वालो की सुचना देने के लिए फ़ोन नंबर :- 0522-2236760, 9454457241

IRNSS-1 की आज लॉन्चिंग, पहली बार प्राइवेट कंपनियां सैटेलाइट प्रोजेक्ट में शामिल !!

इसरो (इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन) गुरुवार को अपना आठवां रीजनल नेविगेशन सैटेलाइट लॉन्च करेगा. गुरुवार शाम 7 बजे श्रीहरिकोटा स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर के दूसरे लॉन्च पेड से ‘आईआरएनएसएस-1’ की लॉन्चिंग होगी, इसे पीएसएलवी-सी 39 की मदद से अंतरिक्ष में छोड़ा जाएगा. इसरो के मुताबिक, आईआरएनएसएस-1 ए की एटॉमिक क्लॉक्स बंद पड़ गई है, जो भारतीय स्पेस मिशन में बड़ी समस्या साबित हो सकती है. बता दें कि इससे पहले रशियन ग्लोनास और यूरोपियन स्पेस एजेंसी के प्रोग्राम में भी यही दिक्कत आई थी. इसीलिए 1425 किग्रा का यह सैटेलाइट आईआरएनएसएस-1 ए की जगह भेजा जा रहा है. मिशन रीडनेस रिव्यू (एमआरआर) कमिटी और लॉन्च अथॉराइजेशन बोर्ड (एलएबी) ने आईआरएनएसएस-1 के काउंटडाउन की अनुमति दी है.

किस तरह मदद करेगा आईआरएनएसएस

इसरो ने बताया कि यह पहली बार है जब सैटेलाइट बनाने में प्राइवेट कंपनियां सीधे तौर पर शामिल हुई हैं. आईआरएनएसएस-1 एच को बनाने में प्राइवेट कंपनियों का 25% योगदान रहा. गौरतलब है कि आईआरएनएसएस का पहला हिस्सा 1 जुलाई 2013 को लॉन्च किया गया था. इसका दूसरा हिस्सा अप्रैल 2018 में लॉन्च किया जाएगा. इस सैटेलाइट प्रोग्राम के पूरी तरह चालु होने से लोकेशन बेस्ड सर्विस जैसे कि रेलवे, सर्वे, इंडियन एयर फोर्स, डिजास्टर मैनेजमेंट को बड़ी मदद मिलेगी. ऐसा कहा जा रहा है कि आने वाले समय में आईआरएनएसएस, जीपीएस की जगह लेगा. !!

गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस से भी उड़ान भरेंगे यात्री विमान, जल्द शुरू होगी ‘उड़ान’ सेवा !!

भारत सरकार की उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक) योजना के तहत गाजियाबाद स्थित वायु सेना के हिंडन हवाई अड्डे के रूप में जोड़ा गया है. जल्द ही यहां से छोटे शहरों के लिए यात्री विमान सेवा शुरू की जाएगी. भारतीय वायु सेना सरकार की क्षेत्रीय संपर्क योजना (आरसीएस) के तहत अपने हिंडन एयरबेस का असैन्य उड़ानों के लिए इस्तेमाल किये जाने पर सहमत हो गई है. केंद्र सरकार ने इस किफायती सेवा को पिछले साल अक्टूबर में लॉन्च किया था. इसके तहत पहली सेवा शिमला हवाई अड्डे से शुरू की गई थी. नागर विमानन सचिव आरएन चौबे ने इसकी जानकारी दी. उन्होंने कहा कि इस कदम से दिल्ली के इंदिरा गांधी हवाई अड्डा का दबाव कम होगा. राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में हिंडन को दूसरे हवाई अड्डे के रूप में चलाने से इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर उड़ानों के लिए स्लॉट (जगह) की कमी दूर होगी. चौबे ने बताया कि आरसीएस की बोली के दूसरे दौर में हमें दिल्ली हवाई अड्डा के स्लॉट की अच्छी मांग आने की उम्मीद है. हमने महसूस किया कि दिल्ली इंदिरा गांधी एयरपोर्ट लिमिटेड (डीआईएएल) के लिए सारे स्लॉट उपलब्ध करवाना मुश्किल होगा और हमने इसी के मद्देनजर यह मुद्दा वायु सेना के सामने उठाया. वायु सेना हमारे साथ सहयोग के लिए तैयार है और हमारे लिए अपना एयरबेस उपलब्ध कराने पर राजी है. दिल्ली के बाहरी इलाके में स्थित हिंडन एयरबेस से असैन्य विमानों का परिचालन अक्टूबर के अंतिम रविवार से शुरू होने की संभावना है. हालांकि सरकार को इसमें छूट के लिए डीआईएएल के समक्ष मुद्दा लाना होगा क्योंकि अभी के नियमों के तहत पहले से मौजूद हवाई अड्डे के 150 किलोमीटर के दायरे में व्यावसायिक उड़ानों के लिए दूसरा हवाईअड्डा अस्वीकार्य है. चौबे ने इस बाबत कहा, ‘हमें यकीन है कि हम डीआईएएल के साथ अनुबंध संबंधी मुद्दों को सुलझाने में कामयाब रहेंगे.’ उन्होंने यह भी बताया कि स्लॉट की कमी के कारण मुंबई का छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा आरसीएस की बोली के दूसरे दौर में उपलब्ध नहीं हो सकेगा. सरकार की क्षेत्रीय संपर्क योजना ‘उड़ान’ यानी ‘‘उड़े देश का आम नागरिक’’ के तौर पर भी जाना जाता है. इसका मकसद चुनिंदा छोटे मार्गों, जैसे दिल्ली से शिमला, पर कीमतों की सीमा तय करके उड़ान सेवाओं को रियायती बनाना है. ऐसे छोटे मार्गों पर एक घंटे की उड़ान के लिए 2,500 रुपए देने होंगे. !!

गाजियाबाद में सीएम योगी के कार्यक्रम से पहले मिले 200 फर्जी वीआईपी पास !!

आरोपी बता रहा है। खुद को भाजपा नेता, मौसे से एक प्रिंटर भी मिला !!

गाजियाबाद। जनपद में गुरुवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कवि नगर स्थित रामलीला मैदान में आज एक जनसभा को संबोधित करेंगे, जिसकी तैयारियां प्रशासन ने पूरी कर ली हैं लेकिन इससे पहले एक बड़ा मामला सामने आया है। बुधवार देर रात गांधीनगर में एक घर से पुलिस को काफी संख्‍या में कार्यक्रम के फर्जी पास मिले हैं। आरोपी खुद को भाजपा नेता बता रहे हैं, वहीं पुलिस मामले की जांच कर रही है।

रामलीला मैदान में जनसभा को करेंगे संबोधित
आज ग़ाज़ियाबाद में योगी आदित्‍यनाथ रामलीला मैदान में जनसभा को संबोधित करेंगे। इसके लिए प्रशासन द्वारा मीडिया को कवरेज के लिए पास जारी किए गए हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भाजपा सरकार बनने और कुर्सी संभालने के बाद पहली बार गाजियाबाद आ रहे हैं। अंदाजा लगाया जा रहा है कि उन्हें सुनने के लिए भारी भीड़ पहुंचेगी। इसके लिए पहले से ही वीआईपी पास का भी इंतजाम किया गया है। आश्चर्य की बात यह है कि इस कार्यक्रम के लिए कुछ फर्जी पास भी बनाए गए हैं। हालांकि, कार्यकर्ताओं की सजगता के चलते फर्जी पास बनाने वाले लोगों का पता चल गया। इसके बाद कोतवाली पुलिस ने गांधीनगर में एक मकान पर छापा मारकर वहां से करीब 200 फर्जी पास बरामद किए। मौके से एक प्रिंटर भी मिला है, जिससे यह पास बनाए गए थे।

घर के पास के कैफे में हुई है छपाई
पुलिस ने इस इस संबंध में बुधवार देर रात को घर में मौजूद धीरज शर्मा और राहुल गोयल को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया है। पुलिस द्वारा अभी तक की जांच में पता चला है क‍ि पास की छपाई आरोपियों के घर के पास के कैफे में हुई थी। फर्जी पास पकड़ कर पुलिस ने एक बड़ी अनहोनी टाल दी है जो सीएम योगी के कार्यक्रम में हो सकती थी। इस तरीके से फर्जी पास बनाकर कोई संदिग्ध शख्‍स भी कार्यक्रम के अंदर पहुंच सकता था और किसी बड़ी घटना को अंजाम दे सकता था। ये पास वीआईपी गैलरी के लिए बनाए गए थे। आपको बताते चलें कि वीआईपी गैलरी मैं आमतौर पर सघन चेकिंग नहीं हो पाती है। पुलिस इन लोगों से पूछताछ कर रही है लेकिन अभी तक की जांच में यह पता लगा है कि भीड़ ज्यादा होने के कारण ये पास बनाए गए थे। एसपी सिटी आकाश तोमर का कहना है कि जैसे ही सूचना मिली, इन लोगों को हिरासत में ले लिया गया है। पुलिस को मौके से दो सौ पास मिले हैं। !!

12 सितंबर को आ सकते हैं आईफोन 8, आईफोन 7s, 7s प्लस और ऐपल वॉच !!

ऐपल फैन्स के लिए खुशखबरी है। ऐपल अपने लेटेस्ट फ्लैगशिप फोन आईफोन 8 पर से 12 सितंबर को परदा उठा सकता है। वॉलस्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के मुताबिक ऐपल 12 सितंबर को एक इवेंट करने की तैयारी कर रहा है जिसमें आईफोन 8 पेश किया जाएगा। वहीं, ब्लूमबर्ग में छपी रिपोर्ट में लिखा है कि न सिर्फ आईफोन 8, बल्कि ऐपल उस दिन आईफोन 7s, आईफोन 7s प्लस, एक नई ऐपल वॉच और ऐपल टीवी स्ट्रीमिंग बॉक्स भी उतारेगा। रिपोर्ट में लिखा है कि यह इवेंट ऐपल पार्क के स्टीव जॉब्स थिअटर में किया जाएगा। लेकिन, इसमें यह भी लिखा है कि ऐपल पार्क वेन्यु के निर्माण की टाइमलाइन को ध्यान में रखते हुए बिल ग्राहम सिविक ऑडिटोरियम को भी विकल्प के तौर पर रखा गया है। सूत्रों के हवाले से वॉल स्ट्रीट जर्नल ने लिखा है कि ऐपल यहां 3 अलग आईफोन उतारेगा। इस बात में कोई शक नहीं है कि इस इवेंट की खासियत आईफोन 8 ही होगा जो अन्य मॉडल्स से महंगा होगा और इसमें एज-टु-एज डिस्प्ले और चेहरा पहचानने वाली टेक्नॉलजी होगी। इसके साथ ही, ऐपल LTE सेल्युलर चिप वाली नई ऐपल वॉच भी पेश करेगी। यह घड़ी वायरलेस सेवाओं से सीधा डेटा ऐक्सेस कर सकेगी जिसके चलते कॉल करने, ई-मेल या मेसेज भेजने के लिए आईफोन पर निर्भरता कम हो जाएगी। विश्लेषकों के मुताबिक, आईफोन 8 की कीमत कम्पनी 1000 डॉलर (करीब 64,000 रु) के आसपास रखेगी। इसके ज्यादा मेमरी वाले वेरियंट 1400 डॉलर (करीब 89,600 रु) तक के हो सकते हैं। पहले की कुछ रिपोर्ट्स में यह दावा भी किया जा चुका है कि ऐपल इस इवेंट में 4K ऐपल टीवी भी लॉन्च करेगा। कम्पनी ने फिलहाल प्रेस इनवाइट्स भेजने शुरू नहीं किए हैं इसलिए आधिकारिक कन्फर्मेशन का इंतज़ार करना सही होगा। लेकिन, पहले भी इसी तारीख को लेकर खबरें आई थीं इसलिए माना जा रहा है कि यह जानकारी सही हो सकती है। !!

ऑपरेशन टेबल पर बेहोश पड़ी थी गर्भवती महिला और आपस में भिड़ गए डॉक्टर, हुई बच्चे की मौत !!

राजस्थान के जोधपुर में एक गर्भवती महिला की सर्जरी के दौरान दो डॉक्टरों के बीच तीखी बहस हुई. इस बहस के दौरान गर्भवती महिला ऑपरेशन टेबल पर पड़ी रही और डॉक्टर आपस में लड़ते रहे. परिणाम स्वरूप महिला ने जिस बच्चे को जन्म दिया वह जीवित नहीं बच सका. इस घटना का वीडियो सबके सामने आया, जिसके बाद दोनों डॉक्टरों को निलंबित कर दिया गया है. यह घटना मंगलवार को जोधपुर के उमेद अस्पताल में हुई जो कि शहर की सबसे बड़ी अस्पताल है. ऑपरेशन थिएटर में दो डॉक्टर एक-दूसरे को धमका रहे थे, लड़ रहे थे और उन दोनों के बीच बेहोश महिला पड़ी थी. एक स्टाफ सदस्य ने मोबाइल से इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो बना लिया. इसी बहस के बीच डॉक्टरों में शामिल एक ऑब्सटेट्रीशियन ने अंतत: डिलीवरी कराई लेकिन जन्म लेने वाला बच्चा जीवित नहीं बच सका. बताया जाता है कि गर्भस्थ शिशु के दिल की धड़कनें कमजोर थीं जिसकी वजह से महिला की आपातकालीन सर्जरी की गई. इसी दौरान दो डॉक्टरों ऑब्सटेट्रीशियन डॉ अशोक नैनवाल और एनेस्थेटिस्ट डॉ एमएल टाक के बीच विवाद हो गया. डॉ नैनवाल ने अन्य ऑब्सटेट्रीशियनों से पूछा कि मरीज ने ऑपरेशन से पहले क्या खाया था. माना जाता है कि डॉ टाक ने जूनियर डॉक्टर से इसका परीक्षण कराना चाहा जिस पर डॉ नैनवाल सहमत नहीं थे. इसपर डॉ नैनवाल डॉ टाक से चिल्लाते हुए कहा कि ‘आप अपनी सीमा में रहें.’ दोनों डॉक्टर ऑपरेशन थिएटर में मरीज महिला के सामने नर्सें और स्टाफ के अन्य सदस्य ने कहा की सर्जरी की गई है. पर वो नहीं माने और नर्सें और स्टाफ ने इन दोनों को रोकने की कोशिश भी की , अब यह मामला सामने आने के बाद डॉ नैनवाल और डॉ टाक को निलंबित कर दिया गया है. !!

हिमाचल में गुड़िया प्रकरण में IG समेत आठ पुलिस कर्मियों को CBI ने किया गिरफ्तार !!

हिमाचल प्रदेश के कोटखाई की गुड़िया गैंगरेप मर्डर केस में सीबीआई मंगलवार को आईजी और डीएसपी समेत आठ पुलिसवालों को गिरफ्तार किया है। सीबीआई ने इन सभी पुलिसवालों को एक आरोपी की पुलिस हिरासत में मौत के मामले में गिरफ्तार किया है। आपको बता दें कि दो अगस्त को इस मामले में सीबीआई हाईकोर्ट में स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करेगी। वहीं इस मामले में मंगलवार को सीबीआई ने आरोपी आशीष चौहान की जामनत याचिका पर सुनवाई करते हुए सीबीआई को नोटिस जारी किया है। इतना ही नहीं हाईकोर्ट ने निर्देश दिया है कि 11 सितंबर तक आरोपी आशीष की जांच से जुड़ी संबंधित रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल करें। आपको बता दें कि 22 जुलाई को सीबीआई ने आशीष के खिलाफ आईपीसी की धारा 376, 302, 34, 120 बी और पॉस्को अधिनियम की धारा 6 के तहत केस दर्ज किया था।

क्या है पूरा मामला !
IG ने बताया था कि चार जुलाई को स्कूल से छुट्टी होने के बाद गुड़िया अपनी सहेली के साथ स्कूल से घर के लिए निकली। कुछ दूरी पर दूसरी सहेली अन्य रास्ते से अपने घर की ओर निकल गई। इसके बाद गुडिया अभी कुछ ही कदम चली थी कि उसे एक पिकअप गाड़ी मिली। गाड़ी के चालक राजू ने गुड़िया को गाड़ी में बैठने के लिए कहा। पुलिस ने बताया कि राजू के साथ स्कूल के बच्चे अक्सर गाड़ी में जाते थे। जब वह गाड़ी में बैठी उसकी सहेली दूसरे रास्ते से चली गई थी। गाड़ी की अगली सीट पर दो युवक बैठे थे। राजू ने उन्हें उतार कर पीछे बैठने को कहा और गुड़िया को आगे बैठा लिया। राजू बगीचे में स्प्रे मशीन छोड़ने जा रहा था। स्प्रे मशीन छोड़ने के बाद पांचों ने आपस में सलाह-मशविरा किया। फिर थोड़ी दूर पर गाड़ी रोकी और गुड़िया को गाड़ी से जबरन घसीट कर सड़क से नीचे जंगल में ले गए। यहां पर राजू ने गुड़िया के साथ दुष्कर्म किया। राजू के बाद अन्य चार आरोपियों ने भी बारी-बारी से गुड़िया के साथ दुष्कर्म किया। पुलिस का कहना था कि सभी आरोपी नशे में धुत्त थे।
इस दौरान जब वे अप्राकृतिक दुष्कर्म कर रहे थे तो नशे में उन्होंने गुड़िया का मुंह दबा दिया। मिट्टी में मुंह दबने से उसकी सांस रुक गई, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई थी !!

पैसे जमां करवाने जा रहे है तो हो जाएं सावधान, बैंक नहीं लेगा ये नोट !!

अगर आप बैंक में पैसे जमा करवाने जा रहै है तो ये खबर आपके लिए जरुरी हो सकती है। नकली नोटों के अलावा आपके असली नोट लेने से भी बैंक मना कर सकते हैं। ज्यादातर बैंकों में नकली नोटों को लेने से इंकार किया जाता हैं, पर अब बैंक द्वारा पुराने, फटे हुए और अन्य तरह के नोटों को स्वीकार नहीं किया जाएगा। दरअसल रिजर्व बैंक ने तीन जुलाई 2017 को मास्टर सर्कुलर जारी किया है, जिसमें नोटों और सिक्कों को बदलवाने के बारे में गाइडलाइन दी गई हैं। जनता के लाभ और सहूलियत के लिए नोट बदलने की सुविधा देने की दृष्टि से बैंकों की सभी शाखाओं को भारतीय रिजर्व बैंक (नोट वापसी) नियमावली, 2009 के नियम 2(ज) के अंतर्गत कटे-फटे दोषपूर्ण/ बैंक नोटों की मुफ्त बदली के अधिकार दिए गए हैं।

राजनैतिक नारा या संदेश आदि लिखे हुए नोट
यदि किसी नोट के एक सिरे से दूसरे सिरे तक कोई नारा अथवा राजनीतिक प्रकृति का संदेश लिखा हो तो यह कानून तौर पर मान्य मुद्रा नहीं रह जाती।

कटे हुए नोट
यदि एक्सचेंज रेट पाने के लिए जानबूझकर काटे गए अथवा बेईमानी से फेर-बदल किए नोट दिए जाते हैं तो निरस्त कर दिया जाएगा। ऐसे नोटों को ध्यान से देखने पर यह स्पष्ट हो जाता है कि यह कार्य जानबूझकर धोखा देने के उद्देश्य से किया गया है, क्योंकि ऐसे नोटों को जिस प्रकार से काटा/विरूपित किया जाता है।

बिल्कुल खस्ताहाल, जले, टुकड़े-टुकड़े, चिपके हुए नोट
ऐसे नोट जो बहुत ही खस्ताहाल हों या बुरी तरह से जल गए हों, टुकड़े-टुकड़े हो गए हों अथवा आपस में बुरी तरह से चिपक गए हों और इस वजह से वे अब सामान्यतया उठाने-रखने लायक न रह गए हों तो बैंक शाखाओं में ऐसे नोट नहीं बदले जाएंगे।

पहले बदले जा सकते थे ये नोट
‘गंदा नोट’ उस नोट को माना जाता है जो सामान्य रूप से बहुत अधिक इस्तेमाल किए जाने के कारण गंदा हो गया हो। उस नोट को भी गंदा नोट माना जाता है जिसे दो टुकड़ों को चिपकाकर बनाया गया हो जिसमें प्रस्तुत नोट के दोनों टुकड़े एक ही नोट के हैं और नोट में सभी आवश्यक विशेषताएं मौजूद हैं।

ऐसे नोटों को अगर सरकारी देनदारी चुकता करने के लिए या बैंक के काउन्टरों पर अपने खातों में जमा करने के लिए लाए जाएं तो ये स्वीकार किए जाएंगे। ‘विरूपित नोट’ उसे कहते हैं जिसका एक हिस्सा गायब हो अथवा जिसे दो टुकड़ों से अधिक टुकड़ों से बनाया गया हो। विरूपित नोटों को किसी भी बैंक की शाखा में जमा किया जा सकता है। !!