स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन बोले- कोरोना का बुरा समय टल गया , जनवरी से शुरू होगा COVID-19 का टीकाकरण

भारत में जनवरी में COVID-19 का टीकाकरण शुरू किया जा सकता है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा है कि सुरक्षित और प्रभावकारी वैक्सीन सरकार की प्राथमिकता रही है. डॉ हर्षवर्धन ने एक इंटरव्यू में कहा, “व्यक्तिगत रूप से मेरा विचार है कि जनवरी के किसी सप्ताह या चरण में हम भारत में लोगों को पहला कोविड टीका लगाने की स्थिति में हो सकते हैं.” मंत्री ने कहा कि जिन वैक्सीनों ने आपातकालीन उपयोग की स्वीकृति के लिए आवेदन किया है, उनका विश्लेषण ड्रग रेगुलेटर द्वारा किया जा रहा है | केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने न्यूज एजेंसी से बातचीत में कहा, भारत में कोरोना वैक्सीन को लेकर तेजी से काम चल रहा है. भारत वैक्सीन तैयार करने और रिसर्च में हमेशा से आगे रहा है. वैक्सीन की सुरक्षा और असर को लेकर वैज्ञानिक कोई समझौता नहीं करना चाहते हैं. हमारे वैज्ञानिक कोरोना वैक्सीन को लेकर बहुत गहराई और गंभीरता से आंकड़ों का अध्ययन कर रहे हैं |

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, कुछ महीनों पहले तक देश में 10 लाख एक्टिव केस थे जो घटकर अब 3 लाख के करीब हैं. उन्होंने कहा कि देश में अब तक कोरोना के 1 करोड़ से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं लेकिन इनमें से 95 लाख से ज्यादा मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं. उन्होंने कहा कि भारत को रिकवरी रेट दुनिया में सबसे ज्यादा है. डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि देश पिछले 10 महीनों से जिस संकट से गुजरा है वो अब खत्म होने की दिखा में बढ़ रही है. कोरोना की इस जंग में आज भारत दुनिया के अन्य देशों की तुलता में बेहतर स्थिति में है |

वैक्सीन नहीं लगवाने वालों पर सरकार नहीं डालेगी दबाव
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कोरोना वैक्सीन के वितरण को लेकर कहा कि भारत सरकार पिछले 4 महीनों से राज्यों के साथ वैक्सीनेशन की तैयारियों में जुटा हुआ है. लोगों को सुरक्षित तरीके से कोरोना वैक्सीन देने के लिए 260 जिलों के 20 हजार से अधिक वर्कर्स को ट्रेनिंग दी जा रही है. हमारी कोशिश होगी कि हमारी प्राथमिकता में शामिल हर व्यक्ति को वैक्सीन लगाई जाए, लेकिन कोई इसे नहीं लगवाना चाहे तो उस पर दबाव नहीं डाला जाएगा |

Leave a comment