बार-बार भूकंप दिल्ली-NCR में बड़े खतरे का संकेत तो नहीं , भूकंप के दौरान घबराएं नहीं, जान बचाने के लिए अपनाएं ये उपाय

देश की राजधानी दिल्ली और उसके आसपास की धरती फिर कांपी. 8 जून 2020 , 2.1 तीव्रता का झटका फिर आया. लगातार धरती हिलने की वजह से दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में बड़े भूकंप के आने की आशंका है. ऐसी आशंका देश के वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने जताई है. इसके पीछे कारण ये है कि दिल्ली-एनसीआर में पिछले एक महीने से लगातार छोटे-छोटे भूकंप के कई झटके आ चुके हैं | भूकंप की निगरानी करने वाली देश की सर्वोच्च संस्था द नेशनल सेंटर ऑफ सीसमोलॉजी The National Center of Seismology ने बताया है कि 12 अप्रैल से 29 मई तक दिल्ली-NCR में 10 भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं |

भूकंप के दौरान घबराएं नहीं, जान बचाने के लिए अपनाएं ये उपाय

भूकंप के झटके जैसे ही महसूस हो तुरंत आपको उस घर में से बाहर खुली जगह पर निकल जाना चाहिए। बड़ी इमारत, बिजली के खंभों और पेड़ों से ज्यादा दूरी बना लेनी चाहिए।
भूंकप आने के बाद बाहर निकलने के लिए लिफ्ट का इस्तेमाल बिल्कुल भी ना करें। नीचे उतरने के लिए सीढ़ियों का ही इस्तेमाल करें।

अगर आप ऐसी जगह पर हैं, जहां बाहर निकलने से भी कोई फायदा नहीं है तो खुद को सुरक्षित करने के लिए ऐसी जगह खोजें जहां आप बच सकते है। बेड के नीचे या टेबल के नीचे लोटकर आप खुद को सुरक्षित कर सकते हैं।

भूकंप के झटके महसूस होने पर पंखे, खिड़की, अलमारी और भारी सामानों से दूर रहें। इनके गिरने और कांच के टूटने से चोट लगने का ज्यादा खतरा रहता है।

बेड, टेबल, डेस्क जैसे मजबूत फर्नीचर के नीचे घुस जाएं और उसके निचले हिस्सों को कसकर पकड़ लें ताकि झटकों से वह खिसके नहीं।

अगर आपको कोई मजबूत चीज नजर नहीं आ रही है, तो किसी मजबूत दीवार से सटकर शरीर के नाजुक हिस्से जैसे सिर, हाथ आदि को किसी मजबूत चीज या मोटी किताब से ढककर घुटने के बल टेक लगाकर बैठ जाएं।

 

बार-बार खुलते और बंद होते दरवाजों से दूर रहें।

अगर आप भूकंप आने के समय गाड़ी में हैं, तो बिल्डिंग, होर्डिंग्स, खंभों, फ्लाईओवर, पुल आदि से दूर खुले मैदान में या सड़क के किनारे गाड़ी रोक लें और स्थिति सामान्य होने का इंतजार करें।

Leave a comment