दिल्ली हिंसा में अब तक 167 FIR दर्ज, 885 लोग पुलिस गिरफ्त में , ताहिर फरार

देश को झकझोर देने वाली दिल्ली हिंसा में कुल 42 लोगों की मौत हो चुकी है.और 250 लोग घायल हुए हैं. इस हिंसा पर अब काबू पाया जा चुका है. पिछले 3 दिनों से हिंसा की कोई वारदात की खबर नहीं है. दिल्ली हिंसा में अब तक 167 FIR दर्ज की जा चुकी है. आर्म्स एक्ट के तहत 36 केस दर्ज हुए हैं. अब तक हिरासत में लिए गए और गिरफ्तार किए गए लोगों की संख्या 885 तक पहुंच चुकी है |

 

 

सोशल मीडिया वेबसाइट पर भड़काऊ पोस्ट के लिए 13 मामले दर्ज

एक वरिष्ठ अधिकारी ने शनिवार को बताया कि आर्म्स एक्ट (Arms Act) के तहत 36 मामले दर्ज किए गए हैं. पुलिस ने ट्विटर, फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसी विभिन्न सोशल मीडिया वेबसाइट पर भड़काऊ पोस्ट लिखने के लिए 13 मामले दर्ज किए हैं. वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि अवैध और आपत्तिजनक सामग्री का प्रसार करने के लिए कई सोशल मीडिया अकाउंट बंद कर दिए गए हैं |

सोशल मीडिया और प्रिंट मीडिया को ऑनलाइन प्लेटफार्म का जिम्मेदारी से इस्तेमाल करने का परामर्श जारी किया गया है. पुलिस ने कहा कि लोगों से भी अपील की गई है कि सोशल मीडिया प्लेटफार्म का इस्तेमाल करने में सावधानी बरतें |

 

उत्तर-पूर्वी दिल्ली में स्थिति शांतिपूर्ण, जनजीवन धीरे-धीरे हो रहा सामान्य

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के दंगाग्रस्त इलाकों में शनिवार को स्थिति शांतिपूर्ण रही. इन क्षेत्रों में अब जनजीवन धीरे-धीरे पटरी पर लौटने लगा है. सुरक्षाकर्मियों की व्यापक गश्त के बीच खुलीं कुछ दुकानों से किराने का सामान और दवाइयां खरीदने के लिए लोग अपने घरों से बाहर निकले. स्थानीय निवासी इस सप्ताह की शुरुआत में इलाके में हुए सांप्रदायिक दंगों में पहुंचे नुकसान से धीरे-धीरे उबरने की कोशिश कर रहे हैं |

उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर, चांदबाग, मुस्तफाबाद, भजनपुरा, शिव विहार, यमुना विहार हिंसा से सर्वाधिक प्रभावित इलाकों में शामिल हैं. हिंसा के दौरान संपत्ति को काफी नुकसान पहुंचा है. उग्र भीड़ ने मकानों, दुकानों, वाहनों, पेट्रोल पंपों को फूंक दिया और स्थानीय लोगों तथा पुलिसकर्मियों पर पथराव किया |

 

पांच दिनों की तुलना में सड़कों पर अधिक वाहन दिखे

हिंसा प्रभावित इलाकों में पिछले पांच दिनों की तुलना में सड़कों पर अधिक वाहन और लोग दिखे. कई इलाकों में आज सुबह से ही नगर निगम के कर्मचारियों को ईंटों, कांच के टुकड़े और जले हुए वाहनों को हटाते देखा गया. कुछ स्थानों पर, यहां तक कि बुलडोजर का भी इस्तेमाल किया गया क्योंकि मलबे को हाथ से हटाना मुश्किल था |

दिल्ली पुलिस और अर्धसैनिक बलों के कर्मियों ने लोगों को अपनी दुकानें खोलने के लिए प्रोत्साहित किया और शांति तथा सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने की अपील की. सुरक्षाकर्मियों ने जाफराबाद में फ्लैग मार्च किया और मौजपुर तथा फिर नूर-ए-इलाही, यमुना विहार और भजनपुरा की संकरी गलियों में गए, जहाँ इस सप्ताह के शुरू में भीड़ ने दुकानों, मकानों और वाहनों में तोड़फोड़ की और उनमें आग लगा दी थी |

 

7 मार्च तक बंद रहेंगे स्कूल
उत्तर-पूर्वी दिल्ली के स्कूल अभी भी बंद हैं. हिंसा के मद्देनजर सात मार्च तक स्कूल बंद रहेंगे. अधिकारियों के अनुसार हिंसा प्रभावित क्षेत्रों में परीक्षाएं आयोजित कराने के लिए स्थिति अनुकूल नहीं है, इसलिए वार्षिक परीक्षाओं को भी स्थगित कर दिया गया है |

2 मार्च को तय कार्यक्रम के अनुसार होंगे CBSE परीक्षा
केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने हालांकि कहा कि 10वीं और 12वीं कक्षा के लिए बोर्ड परीक्षाएं दो मार्च से तय कार्यक्रम के अनुसार आयोजित की जाएंगी |

नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली के डीएम ऑफिस पहुंचे CM केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के साथ उत्तर-पूर्वी जिलाधिकारी कार्यालय में राहत कार्यों की समीक्षा की. उन्होंने कहा, ‘‘मैं हर दिन संबंधित अधिकारियों से विस्तृत जानकारी ले रहा हूं. इसके साथ ही हम जमीन पर उतरकर चौबीसों घंटे काम भी कर रहे हैं। अगर जरूरत पड़ी तो हम केंद्र सरकार से भी मदद मांगेंगे |

एसएन श्रीवास्तव ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर का कार्यभार संभाला
कार्यवाहक दिल्ली पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव ने शनिवार को कहा कि उनकी प्राथमिकता राष्ट्रीय राजधानी में शांति बहाल करना और सांप्रदायिक सौहार्द सुनिश्चित करना है. दिल्ली पुलिस आयुक्त का अतिरिक्त प्रभार संभालने के बाद उन्होंने कहा कि यह शहर की परंपरा रही है कि हर वर्ग और धर्म के लोग एक साथ सद्भाव से रहते हैं और अच्छे और बुरे वक्त में एक-दूसरे की मदद करते हैं |

Leave a comment