क्या होता है कल्पवृक्ष और हमारे जीवन में इसका क्या उपयोग हैं : आईपीएस संदीप मीणा

लेखक आईपीएस संदीप मीणा हैं
वर्तमान में गाजियाबाद में ASP पद पर सेवारत हैं |

 

दोस्तों इस जन्मदिवस पर मैंने एक कल्पवृक्ष का पौधा लगाया इस कल्पवृक्ष का बहुत ही वैज्ञानिक और पौराणिक महत्व दोस्तों इस कल्पवृक्ष के बारे में मैं आपको संक्षेप में थोड़ा सा बताना चाहूंगा वेद और पुराणों में कल्पवृक्ष का उल्लेख मिलता है। कल्पवृक्ष स्वर्ग का एक विशेष वृक्ष है। पौराणिक धर्मग्रंथों और हिन्दू मान्यताओं के अनुसार यह माना जाता है कि इस वृक्ष के नीचे बैठकर व्यक्ति जो भी इच्छा करता है, वह पूर्ण हो जाती है, क्योंकि इस वृक्ष में अपार सकारात्मक ऊर्जा होती है।

 

पुराणों के अनुसार समुद्र मंथन के 14 रत्नों में से एक कल्पवृ‍क्ष की भी उत्पत्ति हुई थी। समुद्र मंथन से प्राप्त यह वृक्ष देवराज इन्द्र को दे दिया गया था और इन्द्र ने इसकी स्थापना ‘सुरकानन वन’ (हिमालय के उत्तर में) में कर दी थी। पद्मपुराण के अनुसार पारिजात ही कल्पतरु है।

लेकिन अब सवाल यह उठता है कि क्या सचमुच ऐसा कोई वृक्ष था या है? यदि था तो क्या आज भी वो है? यदि है तो वह कैसा दिखता है और उसके क्या फायदे हैं? आओ जानते है-

वृक्षों और जड़ी-बूटियों के जानकारों के मुताबिक यह एक बेहद मोटे तने वाला फलदायी वृक्ष है जिसकी टहनी लंबी होती है और पत्ते भी लंबे होते हैं। दरअसल, यह वृक्ष पीपल के वृक्ष की तरह फैलता है और इसके पत्ते कुछ-कुछ आम के पत्तों की तरह होते हैं। इसका फल नारियल की तरह होता है, जो वृक्ष की पतली टहनी के सहारे नीचे लटकता रहता है। इसका तना देखने में बरगद के वृक्ष जैसा दिखाई देता है। इसका फूल कमल के फूल में रखी किसी छोटी- सी गेंद में निकले असंख्य रुओं की तरह होता है।

 

पीपल की तरह ही कम पानी में यह वृक्ष फलता-फूलता हैं। सदाबहार रहने वाले इस कल्पवृक्ष की पत्तियां बिरले ही गिरती हैं, हालांकि इसे पतझड़ी वृक्ष भी कहा गया है।

यह वृक्ष लगभग 70 फुट ऊंचा होता है और इसके तने का व्यास 35 फुट तक हो सकता है। 150 फुट तक इसके तने का घेरा नापा गया है। इस वृक्ष की औसत जीवन अवधि 2500-3000 साल है। कार्बन डेटिंग के जरिए सबसे पुराने फर्स्ट टाइमर की उम्र 6,000 साल आंकी गई है।

भारत में कहां पाया जाता है कल्पवृक्ष…

औषध गुणों के कारण कल्पवृक्ष की पूजा की जाती है। भारत में रांची, अल्मोड़ा, काशी, नर्मदा किनारे, कर्नाटक आदि कुछ महत्वपूर्ण स्थानों पर ही यह वृक्ष पाया जाता है। पद्मपुराण के अनुसार परिजात ही कल्पवृक्ष है।

समाचारों के अनुसार ग्वालियर के पास कोलारस में भी एक कल्पवृक्ष है जिसकी आयु 2,000 वर्ष से अधिक की बताई जाती है। ऐसा ही एक वृक्ष राजस्थान में अजमेर के पास मांगलियावास में है और दूसरा पुट्टपर्थी के सत्य साईं बाबा के आश्रम में मौजूद है।

क्या-क्या होता है कल्पवृक्ष में…

यह एक परोपकारी मेडिस्नल-प्लांट है अर्थात दवा देने वाला वृक्ष है। इसमें संतरे से 6 गुना ज्यादा विटामिन ‘सी’ होता है। गाय के दूध से दोगुना कैल्शियम होता है और इसके अलावा सभी तरह के विटामिन पाए जाते हैं।

इसकी पत्ती को धो-धाकर सूखी या पानी में उबालकर खाया जा सकता है। पेड़ की छाल, फल और फूल का उपयोग औषधि तैयार करने के लिए किया जाता है।

 

एक वृक्ष के कितने फायदे…

सेहत के लिए : इस वृक्ष की 3 से 5 पत्तियों का सेवन करने से हमारे दैनिक पोषण की जरूरत पूरी हो जाती है। शरीर को जितने भी तरह के सप्लीमेंट की जरूरत होती है इसकी 5 पत्तियों से उसकी पूर्ति हो जाती है। इसकी पत्तियां उम्र बढ़ाने में सहायक होती हैं, क्योंकि इसके पत्ते एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं। यह कब्ज और एसिडिटी में सबसे कारगर है। इसके पत्तों में एलर्जी, दमा, मलेरिया को समाप्त करने की शक्ति है। गुर्दे के रोगियों के लिए भी इसकी पत्तियों व फूलों का रस लाभदायक सिद्ध हुआ है।

इसके बीजों का तेल हृदय रोगियों के लिए लाभकारी होता है। इसके तेल में एचडीएल (हाईडेंसिटी कोलेस्ट्रॉल) होता है। इसके फलों में भरपूर रेशा (फाइबर) होता है। मानव जीवन के लिए जरूरी सभी पोषक तत्व इसमें मौजूद रहते हैं। पुष्टिकर तत्वों से भरपूर इसकी पत्तियों से शरबत बनाया जाता है और इसके फल से मिठाइयां भी बनाई जाती हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार हमारे शरीर में आवश्यक 8 अमीनो एसिड में से 6 इस वृक्ष में पाए जाते हैं।

पर्यावरण के लिए : यह वृक्ष जहां भी बहुतायत में पाया जाता है, वहां सूखा नहीं पड़ता। यह रोगाणुओं का डटकर मुकाबला करता है। इस वृक्ष की खासियत यह है कि कीट-पतंगों को यह अपने पास फटकने नहीं देता और दूर-दूर तक वायु के प्रदूषण को समाप्त कर देता है। इस मामले में इसमें तुलसी जैसे गुण हैं।

पानी के भंडारण के लिए इसे काम में लिया जा सकता है, क्योंकि यह अंदर से (वयस्क पेड़) खोखला हो जाता है, लेकिन मजबूत रहता है जिसमें 1 लाख लीटर से ज्यादा पानी की स्टोरिंग केपेसिटी होती है। इसकी छाल से रंगरेज की रंजक (डाई) भी बनाई जा सकती है। चीजों को सान्द्र ( Solid) बनाने के लिए भी इस वृक्ष का इस्तेमाल किया जाता है।

कैसे उपयोग करें कल्पवृक्ष को औषधि के रूप में•••••

पत्तों का उपयोग : हमारे दैनिक आहार में प्रतिदिन कल्पवृक्ष के पत्ते मिलाएं 20 प्रतिशत और सब्जी (पालक या मैथी) रखें 80 प्रतिशत। आप इसका इस्तेमाल धनिए या सलाद की तरह भी कर सकते हैं। इसके 5 से 10 पत्तों को मैश करके परांठे में भरा जा सकता है।

फल का उपयोग : कल्पवृक्ष का फल आम, नारियल और बिल्ला का जोड़ है अर्थात यह कच्चा रहने पर आम और बिल्व तथा पकने पर नारियल जैसा दिखाई देता है लेकिन यह पूर्णत: जब सूख जाता है तो सूखे खजूर जैसा नजर आता है।

दोस्तों मैं आप सभी से गुजारिश करना चाहूंगा कि हमारे जीवन में जब भी कोई खुशी का मौका है तो इस अवसर पर एक वृक्ष जरूर लगाएं इसके अलावा भी हमारे दैनिक जीवन में जब भी भी आप को मौका मिले वृक्ष जरूर लगाएं!
कुछ दिनों बाद मानसून आने वाला है हम सब प्रतिज्ञा करें कि इस मानसून में एक-एक व्यक्ति कम से कम 10 पौधे जरूर लगाएं!

वर्तमान समय में पर्यावरण प्रदूषण तेजी से बढ़ा है ,पृथ्वी का तापमान तेजी से बढ़ रहा है,वातावरण में ग्रीन हाउस गैसों की मात्रा बढ़ रही है अतः इस पर्यावरण प्रदूषण को कम करने के लिए ग्लोबल वार्मिंग को कम करने के लिए ग्रीन हाउस गैसों को घटाने के लिए मृदा में वाटर लेवल को बढ़ाने के लिए सबसे सशक्त उपाय हैं अधिक से अधिक वृक्षारोपण है अगर हम अधिक से अधिक वृक्षारोपण करेंगे तो स्वच्छ वायु मिलेगी और अन्य वन्य जीव जंतुओं को आश्रय मिलेगा जैव विविधता को बढ़ावा मिलेगा, मृदा का वाटर लेवल ऊँचा आएगा, साथ ही पर्यावरण संरक्षण भी होगा!

जय हिन्द ,जय भारत😊🙏
लेखक आईपीएस संदीप मीणा हैं
वर्तमान में गाजियाबाद में ASP पद पर सेवारत हैं |

Comments (19)

hydroxychloroquine mechanism of action

hydroxychloroquine mechanism of action https://hydroxychloroquine.webbfenix.com/

hydroxychloroquine 200mg tablets

hydroxychloroquine 200mg tablets https://hhydroxychloroquine.com/

hydroxychloroquine mechanism of action

hydroxychloroquine mechanism of action https://hydroxychloroquine.mlsmalta.com/

pfizer 50% off viagra coupon

pfizer 50% off viagra coupon http://droga5.net/

medicine vidalista tablets

medicine vidalista tablets https://vidalista.mlsmalta.com/

what to expect with suhagra

what to expect with suhagra https://suhagra.buszcentrum.com/

how to take ivermectin

how to take ivermectin https://ivermectin.mlsmalta.com/

dapoxetine for bph insurance coverage

dapoxetine for bph insurance coverage https://dapoxetine.confrancisyalgomas.com/

what is the cost of vidalista daily

what is the cost of vidalista daily https://vidalista40mg.mlsmalta.com/

maximum dose of generic dapoxetine

maximum dose of generic dapoxetine https://ddapoxetine.com/

refill prescription online doctor

refill prescription online doctor https://edmeds.buszcentrum.com/

refill prescription online doctor

refill prescription online doctor https://medpills.bee-rich.com/

stromectol dosage for lice

stromectol dosage for lice https://ivermectin1st.com/

canada cialis generic

canada cialis generic https://wisig.org/

generic albuterol inhaler for sale

generic albuterol inhaler for sale https://amstyles.com/

hydroxychloroquine and covid 19

hydroxychloroquine and covid 19 https://hydroxychloroquinee.com/

amoxicillin side effect rash

Hi! I know this is kinda off topic but I was wondering if you knew where I could find a captcha
plugin for my comment form? I’m using the
same blog platform as yours and I’m having problems finding one?
Thanks a lot! http://antiibioticsland.com/Augmentin.htm

generic cialis next day delivery

generic cialis next day delivery https://cialis.lm360.us/

Leave a comment